नए लोग शेयर बाजार में निवेश कैसे करें ? / Stock Market For Beginners in Hindi

शेयर बाजार में निवेश कैसे करें: क्या आपने कॉन्ट्रा इन्वेस्टिंग के बारे में सुना है? इसका मतलब होता है दुनिया से बिल्कुल अलग चलना, ऐसे रास्ते पर जाना जहां कोई जाना नहीं चाहता, अगर आपने ऐसा कुछ नहीं सुना है, तो आप आज इस ब्लॉग में इसे अच्छे से समझ लेंगे।

शेयर बाजार में निवेश कैसे करें

वैसे कॉविड-19 महामारी के बाद शेयर बाजार में नए लोग बहुत ज्यादा संख्या में आ रहे हैं, लेकिन उन लोगों के पास हमेशा से ही यह दिक्कत रही है की शेयर बाजार में निवेश कैसे करें? यह ब्लॉग उन लोगों के लिए भी है जिनके पास निवेश करने के लिए काफी कम पैसा है, और उन विद्यार्थियों के लिए भी जो शेयर बाजार में रुचि रखते हैं और कम पैसे से शेयर बाजार में अपना निवेश शुरू करना चाहते हैं। आज हम आपको अपने इस ब्लॉग में यह बताएंगे कि नए लोग शेयर बाजार में निवेश कैसे करें? और अपने बचाए हुए पैसे का सबसे अच्छा इस्तेमाल कैसे करें? ताकि वह तेजी से ग्रो हो ।

शेयर बाजार कितना रिस्की है ?

हम में से हर किसी नए लोग में निवेश करने से पहले यह सवाल जरूर आता है कि शेयर मार्केट रिस्की है? और अगर रिस्की है तो कितना रिस्की है?, तो आईए जानते हैं कि शेयर बाजार असल में है क्या और इसमें कितना रिस्क है ?

मान लीजिए की दो लोग एक सिक्के को उछालकर यह कह रहे हैं कि अगर हेड आया तो कोई एक आदमी जीतेगा और दूसरा आदमी हारेगा, और यदि टेल आया तो कोई दूसरा आदमी जीतेगा और पहला आदमी हारेगा, तो इस तरह के खेल को हम जुआ कहते हैं जहां पर बिना कुछ सोच समझ ही हमें या तो फायदा हो जाता है या नुकसान हो जाता है। लेकिन यही अगर आपको कोई बोले कि सिक्का उछलने पर अगर आप जीते तो आपको ₹100 मिलेंगे और अगर आप हारे तो आप केवल ₹10 ही हारेंगे।

अब इन दोनों उदाहरण में क्या फर्क है? पहले उदाहरण में भी भाग्य वाली बात आती है और दूसरे उदाहरण में भी भाग्य वाली बात आती है, किंतु दूसरे उदाहरण में अगर आप जीतोगे तो आप ₹100 जीतोगे और अगर आप हारोगे तो केवल ₹10 ही हारोगे, और इस तरह के काम को बिजनेस कहा जाता है और शेयर बाजार में इसे हम इन्वेस्टिंग कहते है।

नए लोग शेयर बाजार में निवेश कैसे करें ?

नए लोग शेयर बाजार में निवेश कैसे करें

1) ओवरवैल्युड स्टॉक में निवेश न करें

नए निवेशक ओवरवैल्युड स्टॉक में निवेश करने से बचे, क्योंकि ओवरवैल्यूड स्टॉक का प्राइस हमेशा ही ज्यादा होता है, और अगर उसे स्टॉक से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या या कोई खराब न्यूज़ आने की वजह से वह स्टॉक बहुत ही जल्दी गिर जाता है, जिससे आपको शुरू में ही नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।

2) समान ग्रोथ वाले स्टॉक में निवेश न करें

समान ग्रोथ वाले स्टॉक में ऐसे निवेशक निवेश करते हैं, जिनकी आयु आधी खत्म हो जाती है, यानी वह अपने पैसे पर ज्यादा रिस्क नहीं लेना चाहते। इस तरह के स्टॉक हर साल 10 से 12% की दर से बढ़ते रहते हैं, जो नए और कम उम्र के निवेशक के लिए सही नहीं है, कम उम्र के निवेशक को थोड़ा रिस्क अवश्य ही लेना चाहिए, ताकि उनका पैसा दूसरों की अपेक्षा जल्दी ही बढ़ सके।

Read Also — मौलिक विश्लेषण क्या है ?, कैसे करें ?/ What is Fundamental Analysis in Hindi

उदाहरण के लिए नए निवेशक के पास हमेशा ही कम पैसे होते हैं और अगर मान लीजिए कि आपके पास केवल ₹20000 है और अपने सामान ग्रोथ वाली स्टॉक में निवेश किया है तो आपका पैसा एक साल बाद ज्यादा से ज्यादा 22 या 23 हजार रुपए ही हो पाएगा, जिससे आपका एक बड़ा पोर्टफोलियो या वेल्थ नहीं बन पाएगा तो आप सामान ग्रोथ वाली कंपनियों में निवेश करने से बचे।

रिस्की स्टॉक कैसे ढूंढे ?

रिस्की स्टॉक ढूंढने का सही तरीका यह है, कि आप जिस भी स्टॉक में निवेश करना चाहते हैं, अब जिस प्रकार के स्टॉक को ढूंढ रहे हैं, उसके बारे में आप अपने आप से पूछिए कि क्या इस स्टॉक को दूसरे लोग नफरत से देखते हैं? अगर नहीं तो आप उसे स्टॉक में निवेश मत कीजिए। क्योंकि वह स्टॉक पहले ही सब लोगों की पसंद हो चुकी होगी और वह स्टॉक महंगा भी हो चुका होगा। फिर आपको लगता है कि कोई स्टॉक ऐसा है जिससे लोग चिढ़ते हैं या नफरत करते हैं तो वह स्टॉक आपके लिए एकदम सही है आप उसमें रिस्क लेकर निवेश कर सकते हैं।

लेकिन ध्यान रहे आप उसे स्टॉक में उतना ही पैसा निवेश करेंगे जितना आप नुकसान सह सकते हैं।

कॉन्ट्रा इन्वेस्टिंग क्या है ?

हमने आपको इस ब्लॉग के शुरुआत में ही बता दिया है कि कॉन्ट्रा इन्वेस्टिंग का मतलब होता है कि दूसरों से अलग चलना, यानी ऐसी कंपनियों में निवेश करना जो दूसरे बिल्कुल भी ना करें या उन कंपनियों में निवेश करने से डरें ।

अब इसे हम एक उदाहरण से समझते हैं मान लीजिए की कोई एक पुल है जो अभी-अभी ही गिरा है लोगों को यह बात अच्छे से पता है और कुछ दिनों बाद सरकार ने फिर से उसे पुल को बना दिया लेकिन लोगों के दिमाग में या अभी भी बैठा ही होगा, कि वह पुल कुछ दिन ही पहले गिरा है और लोग वहां जाने से डरेंगे। इसी प्रकार की घटनाएं स्टॉक मार्केट में भी होती है जब कोई शेयर में किसी प्रकार की समस्या उत्पन्न होने के कारण वह शेयर काफी ज्यादा टूट जाता है, और लोग उसे शेयर में निवेश करने से डरने लग जाते हैं, और वह शेयर सस्ता हो जाता है तो जब शेयर सस्ता हो जाता है तो आपको उसे शहर में रिस्क लेकर निवेश करने का मौका मिल जाता है।

Disclaimer

नए निवेशक इन बातों का ध्यान अवश्य रखें कि हम आपको अपने इस ब्लॉग में रिस्की स्टॉक में पैसा लगाने की सलाह दे रहे हैं, जो काफी है जोखिम भरा वाला काम हो सकता है, आप हमेशा उतना ही पैसे पर रिस्क लें जो पैसा आपका नुकसान हो जाने के बाद आपको ज्यादा फर्क ना पड़े। इसलिए आप अपनी सूझबूझ के साथ ही स्टॉक मार्केट में निवेश करें। यह ब्लॉग केवल हमारा एक सुझाव मात्र है जो पर्सनल अनुभव पर आधारित है और हम गलत भी हो सकते हैं, तो इसके लिए आप अपनी सूझबूझ के साथ अवश्य ही कोई कदम उठाए।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top